Follow by Email

Tuesday, February 4, 2014

चल सखी अब चलते ....

चल  सखी  अब  चलते  है ;

देर   हुई  अब  फिर  कभी  मिलते  है .

महफ़िल  मे  अब  न  बेठा  जाएगा  सखी ;

आँशु  पैमाने  मे  छलकने  लगेंगे .

चल  सखी  अब  चलते  है …..

फिर  क्या  पता  कभी  मिलना  हो  न  हो ;

इन  सपनो  को  अब  इसी  महफ़िल  मे  दफनाते  है .

अब  न  कोई  अपना  सखी ,न  अब  कोई  सपना ;

दुनिया  कि  भीड़  मे  अब  खोते  है .

चल  सखी  अब  हम  चलते  है ….

No comments:

Post a Comment